Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10

Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10 | Short Stories in Hindi

Moral Stories in Hindi

इस लेख में हम आपको Moral Stories in Hindi for Class 10 का कलेक्शन देने जा रहे हैं। यह Moral Stories in Hindi खास तौर पर बच्चों के लिए चुना गया है, ताकि वे इन कहानियों से नैतिकता का पाठ सीख सकें।

इन कहानियों को पढ़ने से बच्चों का मनोरंजन भी होगा और साथ ही साथ उन्हें कुछ ज्ञानवर्धक बातें भी सीखने को मिलेगी। हमें उम्मीद है कि आपको यह Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10 बहुत पसंद आएंगी। तो चलिए जानते हैं उन 10 moral stories के बारे में ।

Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10

 

भेड़यों की एकता (Moral Stories in Hindi for Class 10)

Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10

पुराने समय की बात है, एक घने जंगल में भेड़ियों का एक झुंड रहता था और उसी जंगल में एक खूंखार शेर भी रहता था। सभी भेड़िये जंगल में एक गुफा में रहते थे और सभी आपस में बहुत खुश थे। सभी मिल जुलकर आपस में एक दूसरे की मदद भी किया करते थे।

एक दिन उनके गुफा के पास से वह शेर गुजर रहा था। उसने एक भेड़िये के बच्चे की आवाज़ सुनी तो वह उसकी तरफ चल पड़ा। भेड़िये के बच्चों को देखते ही शेर ने बोलना शुरू कर दिया कि इस बच्चे को खाने में बहुत मज़ा आएगा।

पर आज मेरा पेट भरा हुआ है, मैं जब कल इधर फिर से आऊंगा तो सबसे पहले इस भेड़िये के बच्चे को ही खाऊंगा। यह कहते ही शेर वहाँ से चला गया, पर इस बात को एक दूसरे भेड़िये ने सुन लिया।

उसने गुफा में जाकर यह पूरी बात अपने सभी दूसरे भेड़िये दोस्तों को बता डाली। यह पूरी बात सुनते ही उन सभी भेड़ियों ने मिलकर उस शेर का मुकाबला करने का फैसला किया।

फिर जब अगले दिन वहाँ शेर आया तो उसने गुफे के सामने सभी भेडियों को देखा। शेर ने उनसे कहा कि – मेरा शिकार तुम्हारे गुफा में है, उसे मेरे पास ले आओ। यह कहते ही शेर गुफा के अंदर जाने लगा, तभी सभी भेड़ियों ने उसपर मिलकर हमला कर दिया।

शेर उन सभी भेड़ियों का सामना ना कर सका और अपनी जान बचाने के लिए वहाँ से जख़्मी होकर भाग गया। फिर कभी वो उस गुफा के पास भी नहीं आया। इस तरह भेडियों ने एक दूसरे की मदद करते हुए उस बच्चे की जान बचायी।

“एकता में ही बल है”

 

धोखे का जाल (Long Moral Story in Hindi for Class 10)

Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10

जंगल में एक हिरण और चिड़िया साथ में रहते थे। दोनों के बीच बहुत गहरी दोस्ती थी और दोनों एक दूसरे की हमेशा मदद करते थे। दुःख-सुख में भी हिरण और चिड़िया साथ में ही रहते थे।

एक दिन हिरण जंगल में एक सियार के साथ घूम रहा था और उससे कई सारी बातें भी कर रहा था। अब वह हिरण रोजाना सियार के साथ घूमने के लिए चला जाता था, और एक दिन चिड़िया ने उन्हें घूमते हुए देख लिया।

तो चिड़िया ने अपने दोस्त हिरण को समझाया कि वह सियार बहुत चालक है। हर किसी को अपने जाल में फँसा लेता है, इसलिए तुम्हे उससे दूर रहना चाहिए। हिरण ने चिड़िया की बात नहीं मानी और सियार के साथ घूमना जारी रखा।

ऐसे ही एक दिन सियार उस हिरण को एक किसान के खेत में ले गया और उसे वहाँ लगे एक जाल में फसा दिया। हिरण ने उस जाल में से निकलने की बहुत कोशिश की, लेकिन फिर भी वह वहाँ से नहीं निकल पाया।

अब सियार उससे कहना लगा कि मैं किसान को बुलाने जा रहा हूँ और अब वो तुम्हे मार देगा। हिरण यह सुनते ही वहाँ जोर-जोर से चिल्लाने लगा। हिरण के चिल्लाने की आवाज़ सुनते ही चिड़िया वहाँ पर आ गयी और उसने अपने दोस्त को जाल में फँसा हुआ देखा।

चिड़िया ने हिरण को कहा – तुम शांत रहो, और ऐसे लेट जाओ कि तुम मर गए हो। हिरण ने चिड़िया की बात को मान लिया और जाल में ही मरने का नाटक करते हुए लेट गया।

जब किसान वहाँ आया तो उसने देखा कि यह हिरण तो मर गया है। फिर वह जाल जाल खोल देता है। किसान ने जैसे ही जाल खोला, हिरण वहाँ से तुरंत भाग गया और उसकी जान बच गयी।

“किसी के ऊपर जल्दी भरोसा नहीं करना चाहिए”

 

एक माँ की सीख (Class 10 Hindi Moral Stories)

Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 10

बहुत पुराने समय की बात है, जंगल में एक पेड़ के ऊपर एक चिड़िया का घोसला बना हुआ था। उस घोसले में चिड़िया अपने दो छोटे बच्चों के साथ रहती थी।

उन दो छोटे बच्चों का नाम – चिंकी और मिंकी था। वो दोनों बच्चे अभी बहुत छोटे थे, इसलिए वो हमेशा घोसले में ही रहते थे और उनके खाने की चीजें भी उनकी माँ चिड़िया ही लेकर आती थी।

एक दिन चिंकी और मिंकी अपनी माँ से कहती हैं – माँ हमे भी आपकी तरह उड़ना हैं। तो चिड़िया अपने बच्चो को साफ़ मना करके कह देती हैं – बेटा जब तुम थोड़े बड़े हो जाओगे, फिर मैं तुम्हे उड़ना सिखाऊंगी।

कुछ समय बीतने के बाद जब चिड़िया के बच्चे थोड़े बड़े हो जाते हैं, तो वो अपनी माँ की तरह उड़ने के लिए जिद करने लगते हैं। तब फिर चिड़िया अपने बच्चो को उड़ना सीखाना शुरू कर देती है।

चिड़िया अपने बच्चों को उड़ना सीखाने के लिए उन्हें अपनी पीठ पर बैठाकर, ऊपर आसमान की तरफ उड़ पड़ती है और उन्हें ऊपर से नीचे गिरा देती है।

ऊपर से नीचे आने पर चिंकी और मिंकी दोनों अपने पंखो का इस्तमाल करना शुरू कर देती हैं और धीरे धीरे उड़ने लगती हैं। दोनों में से जब कोई ज्यादा नीचे गिरने लगता है, तो चिड़िया उन्हें दुबारा अपनी पीठ पर बैठाकर आसमान की तरफ ले जाती है और वो बच्चे दुबारा उड़ने की कोशिश करने लगते हैं।

ऐसा करते-करते चिंकी और मिंकी दोनों उड़ना सीख जाती हैं और अब वो खुद ही अपना खाना भी ढूंढ लेती हैं।  यह सब देखते हुए चिड़िया को बहुत ख़ुशी होती है।

“किसी भी काम में सफलता पाने के लिए अभ्यास (Practice) बहुत जरुरी है”

 

हम आशा करते हैं कि आपको यह Moral Stories in Hindi for Class 10 पसंद आई होंगी और इन कहानियों से आपको बहुत कुछ सीखने को भी मिला होगा। अगर आपको यह कहानी पसंद आई है तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और आपको कौन सी कहानी पसंद आयी नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।

Also Read:

30+ Best Moral Stories in Hindi for Class 5
Top 10 Moral Stories in Hindi for Class 7
The Blue Jackal Story in Hindi | नीले सियार की कहानी
Golden Egg Story in Hindi | सोने का अंडा कहानी
Lalchi Kutta Story in Hindi with Moral | लालची कुत्ते की कहानी
Farmer and His Four Sons Story in Hindi
Lion and Rabbit Story in Hindi | Aasman Gira Story in Hindi
Donkey and Washerman Story in Hindi | गधा और धोबी की कहानी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *