two friends and bear story in hindi

Two Friends and a Bear Story in Hindi

Moral Stories in Hindi

आज हम आपको Two Friends and a Bear Story के बारे में बताएंगे और जानेंगे कि दोस्ती का असली मतलब क्या होता है। इस कहानी में दो दोस्त हैं, जिनकी जिंदगी में कुछ ऐसी घटना घटती है जिससे उनकी दोस्ती और मजबूत हो जाती है। तो आइए जानते हैं कि उन दोनों दोस्त के साथ ऐसा क्या होता है।

Two Friends and the Bear Story in Hindi

एक बार की बात है, एक गाँव में राज और राहुल नाम के दो करीबी दोस्त रहते थे। वे हर काम एक साथ करते थे। एक दिन, दोनों दोस्तों ने कुछ रोमांचक करने के लिए पास के जंगल में जाने का फैसला किया।

उन्हें नहीं पता था कि यह फैसला उनकी जिंदगी बदल देगा। जैसे ही राज और राहुल जंगल में गहराई तक जाते हैं, वे अपनी खोज में पूरी तरह से खो जाते हैं। घंटे बीत जाते हैं, धीरे धीरे सूरज ढलने लगता है और जंगल में चारों ओर अँधेरा हो जाता है।

उन्हें महसूस होता है कि अब वापस लौटने का समय आ गया है, इसलिए वे घर की ओर चल पड़ते हैं। वहीं पास में, एक पेड़ के पीछे भालू छिपा हुआ होता है। वह उन दोनों की उपस्थिति को महसूस कर रहा होता है और बहुत जोर से गुर्राते हुए बाहर आता है।

भालू के सामने आते ही राज और राहुल बहुत डर जाते हैं। दोनों घबरा कर भागने की कोशिश करते हैं, लेकिन भालू बहुत तेज था। राज उन दोनों में से तेज होने के कारण बहुत आगे निकल जाता है और एक पेड़ में चढ़ने में कामयाब हो जाता है।

लेकिन राहुल उतना तेज नहीं होने के कारण नहीं भाग पाता है। अपने दोस्त को खतरे में देखकर राज को एक कठिन निर्णय लेना पड़ता है। वह खुद को बचाकर और राहुल को भालू के सामने छोड़कर भाग सकता था।

लेकिन उसने ऐसा ना करते हुए अपने दोस्त की जान बचाने का निर्णय लिया। बिना कुछ सोचे, राज पेड़ से नीचे कूद गया और भालू की ओर दौड़ा। राज भालू का ध्यान भटकाने के लिए ज़ोर से चिल्लाया और अपना हाथ लहराने लगा।

भालू अपना ध्यान राज की ओर कर लेता है और जैसे ही वह हमला करने के लिए दौड़ता है, राज कुशलतापूर्वक उसके हमलों को टाल देता है। जब भालू का ध्यान राज के तरफ था, तब राहुल ने मौके का फायदा उठाया।

do dost aur bhalu ki kahani

वह उस खतरनाक स्थिति से बचने के लिए जितनी तेजी से भाग सकता था भगा। वह जानता था कि उसका जीवन राज की निस्वार्थता और बहादुरी के कारण मिला है। राज ने भालू का ध्यान भटकाना जारी रखा और उसे जंगल के अंदर तक ले गया।

आखिरकार भालू ने उसका पीछा करना बंद कर दिया और वापस जंगल में चला गया। थका हुआ और घायल राज आखिरकार घर वापस आ गया है।

जब राहुल और राज गांव पहुंचे, तो भालू से उनकी मुठभेड़ की खबर सुनकर चिंतित ग्रामीणों ने उनका स्वागत किया। राहुल गांव वालों को बताता है की कैसे राज ने बड़ी बहादुरी से उसकी जान बचायी। गांव वाले राज की बहादुरी के लिए उसकी प्रशंसा करने लगे।

उस दिन के बाद से राज और राहुल के दोस्ती और भी मजबूत हो गयी। पूरा गाँव राज की बहादुरी और निस्वार्थता की सराहना करता है और वे गाँव में सच्ची दोस्ती का प्रतीक बन जाते हैं।

Two Friends and Bear Story Moral in Hindi

“राज और राहुल की कहानी हमें सच्ची दोस्ती में छिपी निस्वार्थता और वफादारी का एक महत्वपूर्ण पाठ सिखाती है। दोस्त हमारे जीवन में स्तंभ की तरह होते हैं, जो सुख-दुख में हमारा साथ देते हैं। मुसीबत के समय एक सच्चा दोस्त हमें कभी नहीं छोड़ेगा, बल्कि अपनी उस स्थिति में भी हमारे साथ खड़ा रहेगा।”

 

तो हमेशा याद रखिएगा की सच्चा दोस्त वही होता है, जो मुश्किल हालात में भी पीछे नहीं हटता है। बल्कि अपनी चिंता न करते हुए वह अपने दोस्त का साथ दे। तो दोस्त ऐसा बनाई है जो बुरे वक्त में भी तुम्हारा साथ दे। हम आशा करते हैं कि आपको bhalu aur do dost ki kahani कहानी पसंद आई होगी। अगर आपको यह कहानी पसंद आई है, तो कृपया निचे कमेंट बॉक्स में अपना विचार प्रस्तुत करें।

Also Read:

Golden Egg Story in Hindi

Lalchi Kutta Story in Hindi

The Blue Jackal Story in Hindi

The Three Fishes Story in Hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *